Type Here to Get Search Results !

Ravindra nath Tagore

रविंद्र नाथ टैगोर

अब तक मैं अपनी भावनाओं को साहित्य संगीत में व्यक्त कर रहा हूं पर मेरी आत्मा व्यक्त के तरीके अपूर्ण रहे अता भाव प्रकटीकरण के लिए चित्रित रेखाओं का सहारा ले रहा हूं

शरीर के लिए प्याज के अलावा एक और भी प्यास मनुष्य को लगती है 

रविंद्र नाथ टैगोर

रविंद्र नाथ टैगोर का जन्म 7 मार्च 1861 ईसवी को जोड़ासाँको पश्चिम बंगाल में हुआ था इनके पिता देवेंद्र ठाकुर थे रविंद्र नाथ उच्च कोटि के साहित्यकार के साथ ही नाटककार, उपन्यासकार, संगीतज्ञ, दार्शनिक, अभिनेता, चित्रकार आदि विधाओं में पारंगत है 1901 में उन्होंने कोलकाता में शांतिनिकेतन की स्थापना की 1913 में इन्होंने अपनी कृति गीतांजलि के लिए साहित्य का नोबेल पुरस्कार दिया गया 1919 में शांति निकेतन में कला भवन की स्थापना की जिसका प्रथम अध्यक्ष नंदलाल बोस को नियुक्त किया गया इनका चित्रकला की ओर झुकाव 1926 में यूरोप यात्रा के दौरान हुआ उन्होंने यूरोप में चित्रकला को देखा और समझा लगभग 67 वर्ष की अवस्था में रविंद्र नाथ टैगोर ने लेखन बंद कर चित्रण प्रारंभ किया गुरुदेव की कला शैली को समन्वयात्मक शैली कहा जाता है

गुरुदेव रवींद्रनाथ टैगोर को भारत में आधुनिक अमूर्त कला का जन्मदाता तथा आधुनिक भारतीय कला का प्रथम अंतरराष्ट्रीय चित्रकार कहा गया है इनके आरंभिक चित्र पेंसिल से बने हैं काल्पनिक जानवरों तथा मन की अनुभूतियों को अंकित किया है बाद में उन्होंने कपड़े के टुकड़ों, धागों तथा अंगुलियों को स्याही में डूबा कर विविध प्रकार के प्रयोग कर नवीन संभावनाओं को तलाशा 

रविंद्रनाथ टैगोर के चित्र बाल कला के समान स्वच्छंद रीति में बनाए गए हैं चित्र नाटक से परिपूर्ण परंपरा भारतीय यूरोपीय कला परम्परा का सम्मिश्रण है चित्रों में द्रव्य मिश्रित रंग तथा स्याही का प्रयोग अधिक किया गया है कलाकार ने चित्रों में यथार्थवादी मुंक, पाल क्ली, वानगाग आदि विशेषताओं को अपने सृजन में जगह प्रदान की है टैगोर के चित्रों का मुख्य विषय अचेतन मन की विभिन्न काल्पनिक मुद्राएं तथा भारतीय नारी की अंतर व्यथा रही है

गुरुदेव रविंद्र नाथ टैगोर के चित्रों की प्रथम प्रदर्शनी 1930 में पेरिस के पंडाल आर्ट गैलरी में हुई जिसकी अत्यधिक प्रशंसा की गई इसके पश्चात अनेक यूरोपीय देशों तथा भारत में मुंबई, कोलकाता आदि स्थानों पर आयोजित की गई 1946 ईस्वी में यूनेस्को द्वारा आयोजित अंतर राष्ट्रीय आधुनिक कला प्रदर्शनी में भी गुरुदेव के 4 चित्र प्रदर्शित किए गए 


गुरुदेव रविंद्र नाथ टैगोर के प्रमुख चित्र 

विचित्र जंतु, मशीन मैन, तीन योद्धा, कूदता हुआ हिरण, थके हुए यात्री, सफेद धागे, कान्हा खुशी उमन  लाफिंग फेस - स्याही, नाइट आफ ड्रीम, ट्रीज - स्याह

Tags

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ
* Please Don't Spam Here. All the Comments are Reviewed by Admin.

Top Post Ad

Below Post Ad