Type Here to Get Search Results !

प्रागैतिहासिक काल की कला

       प्रागैतिहासिक काल की पेंटिंग


ग्राम जीवन, भीमबेटका
ग्राम जीवन, भीमबेटका

      

 कला की उत्पत्ति कब और कैसे हुई इसके विषय में निश्चित रूप से हमारे पास कोई साक्ष्य नहीं है पर हम निश्चित तौर पर यह कह सकते हैं कि मानव जीवन के साथ ही कलाओं का जन्म हुआ होगा। प्रागैतिहासिक मानव ने सारी खोजे अचानक से हुई उदाहरण के लिए आग की खोज दो पत्थरों को रगड़ते हुए हुई। ऐसी ही कला का ज्ञान हुआ। जब हम गीले स्थान पर चलते हैं तो अपने पैरों के अवशेष छोड़ते है और अपनी छाया को देख कर हम उत्सुक हो जाते हैं। हो सकता है इसी को देखकर उसके मन में चित्र बनाने की जिज्ञासा जगी होगी। प्रागैतिहासिक काल की कला को तीन भागों में विभाजित किया गया है।


1 पूर्ण पाषाण काल
2 मध्य पाषाण काल
3 उत्तर पाषाण काल

        पूर्ण पाषाण काल

     इस का मानव पूर्ण रूप से जंगली जीवन व्यतीत करता था। उसका ज्यादातर समय भोजन की तलाश में ही व्यतीत होता था। इस युग के मानव ने आग की खोज की जो खोजो की श्रृंखला में उसका पहला कदम था। इस अवधि से हमे पशुओं की हड्डियों और शिकार के लिए प्रयोग में आने वाले हथियारों के साक्ष्य प्राप्त होते हैं इस समय का मानव पहाड़ो में निवास था। पेंटिंग की दृष्टि से कोई महत्वपूर्ण साक्ष्य प्राप्त नहीं जोते है। इस अवधि का मानव क्वर्टीजाईट मानव नाम से भी जाना जाता है। भारत में इस काल के मानव के साक्ष्य दक्षिण भारत से प्राप्त होते हैं।

     मध्य पाशाण काल ​​(25000 से 10000 ईसा पूर्व तक)

    यह काल पूर्व पाषाण और नव पाषाण के मध्य का समय है इस युग में कलात्मक अवशेषों का आभाव पाया जाता है | इस कल के विषय में बहुत कम जानकारी प्राप्त होती है | इस युग में प्राप्त औजारों को चमकुल और जयमितीय रूप प्रदान किया गया औजारों का आकार छोटा होता गया जिन्हे मैक्रोलिथ्स ने कहा जिन पर पालिस की जाती थी जो मानव की सौन्दर्य कुंजी द्रुति के विकाश का परिचायक है | 

उत्तर पाशाण कल ( 10000 से 3000 ईसा पूर्व तक)

       नवपिता काल की सबसे बड़ी उपलब्धि कृषि का विकास था कृषि के ज्ञान ने आदिमानव को एक जगह स्थाई रूप से बसने के लिए विवश कर दिया, खेती में सहायता के लिए जानवरों को पालतू बनाया और बस्तियों में रहने लगा। पहिए के पाने ने उसकी संभावनाओं को और अधिक बल दिया अब वह एक स्थान से दूसरे स्थान पर शीघ्रता के साथ जा सकता था 

       कुंभकारी द्वारा वह अब हाथ से बने बर्तनों का प्रयोग करने लगा उसके द्वारा बनाए गए औजार साफ और सुथरे होते थे इस काल के मानव ने सामूहिक प्रयास से शिकार करना सीख लिया था चित्रकला का प्रारंभ इसी युग से माना जा सकता है मानव ने इन चित्रों के माध्यम से अपने जीवन के कुछ आनंदमयी और भय से युक्त क्षणों को व्यक्त किया है इस काल के चित्र भारत के है। लगभग सभी भागों से प्राप्त होते हैं, लेकिन सुरक्षा के कारणों से प्रागैतिहासिक मानव पहाड़ों को छोड़ ना गया

   1880 इसवी मैं कार्लाइल अफ ने विंध्याचल पर्वत श्रेणी में मिर्जापुर के निकट कैमूर पहाड़ी से कुछ गुफा चित्रों की खोज की लेकिन वह इनकी सूचना मात्र दे सके, इसके बाद 1883 ईसवी में काकबर्न ने इन चित्रों का सचित्र लौंडिक सोसाइटी ऑफ़ बंगाल में प्रकाशित कराया। घोड़ा बंगर नामक स्थान से गैंडे के opet का दृश्य की रेखा अनु की प्रकाशित की गई भारतीय खोजियो में पंचानन मिश्र, अमरनाथ दत्त, प्रोफेसर कृष्णदत्त बाजपेई श्रीधर वालनकर और आर वी जोशी प्रमुख हैं।

 प्रागैतिहासिक काल के प्रमुख गुफा चित्र


संगीत का आनंद लेते हुए प्रेमी युगल, पंचमढ़ी
संगीत का आनंद लेते हुए प्रेमी युगल, पंचमढ़ी

          

    चित्र मध्यप्रदेश


 पंचमढ़ी

          1932 में जी आर हंटर ने सर्वप्रथम गुफाओं को देखा और ये गुफाएँ महादेव पर्वत माला में स्थित है जो पंडवों का निवास स्थान मानी जाती है उसी के नाम पर इन्हें पंचमढ़ी नाम से जाना जाता है महादेव पर्वत के चारों ओर इमली खोह में सांभर, बैल महिष का चित्र, मंडा देव की गुफा में शेर का आखेट का दृश्य, बाजार केव में विशालकाय बकरी का दृश्य, जम्मू दीप से शाही के opet का दृश्य प्राप्त हुआ है पंचमढ़ी में चित्रों की तीन तस्वीरें मिलती हैं ये चित्रों के अतिरिक्त अंतिम स्तर के चित्र हैं संगीत सामाजिक जीवन, संगीत-संगीत आदि विषय से संबंधित चित्रण किया गया है |

भीमबेटका

          इस गुफा की खोजंजैन विश्वविद्यालय के प्रोफेसर श्रीधर विष्णु वाकणकर ने की थी यहां पर कुल 600 गुफाएं हैं जिनमें से 275 में चित्र प्राप्त होते हैं यहां से चित्रों के 2 स्तर प्राप्त होते हैं पहले स्तर के चित्रों में शिकार, नृत्य और जंगली जानवरों का चित्रण। है जबकि दुसरे स्तर के चित्रों में जानवरों को मानव सहचर के रूप के में दिखाया गया है
शहद एकत्र करते हुए, पंचमढ़ी
शहद एकत्र करते हुए, पंचमढ़ी


मंदसौर (सांकेतिक चित्र) 

    मध्य प्रदेश के मंदसौर जिले में मोरी नामक स्थान पर लगभग 30 गुफाएं प्राप्त हुई हैं जिनमें प्रतीकात्मक चित्रण किया गया है इन चित्रों में स्वास्तिक सूर्य चक्र अनंत कमल समूह पीपल की पत्तियों का प्रतिकात्मक चित्रण एवं देहाती बास की गाड़ी की झलक है।

होशंगाबाद (आदमगढ़)

    पंचमढ़ी से 45 मील दूर नर्मदा नदी के तट पर कुछ गुफाओं की खोज मनोरंजन की घोषणा 1922 ईस्वी में की यहाँ आखेट के दृश्यों के अतिरिक्त जिराफ समूह, हाथी, विशालकाय महिष और जंगली मोर आदि के चित्र मिले हैं साथ ही केवल अलीश्वरवरहि सैनिकों के चित्र स्टैंसिल विधि। में यह किए गए हैं यहां से छलिंग लगाता हुआ बारहसिंघा का प्रसिद्ध चित्र प्राप्त हुआ है

सिंघनपुर

   सिंघनपुर मांढ नदी के किनारे 50 प्रतिबिंब गुफाएं मिली हैं इनकी खोज 1910 में डब्लू एंडरसन ने की बाद में अमरनाथ दत्त 1913 पारसी ब्रूक 1917 ने इन गुफा चित्रों का सचित्र पुन प्रकाशित किया गुफाओं के मुख्य चित्र, घायल भैंसा, असंयत गढ़न का कंगारू आदि चित्र दिखाए हैं। क्या इन स्थानों के अतिरिक्त रायसेन रीवा पन्ना छतरपुर कटनी नरसिंहपुर से ग्वालियर उदयगिरि धर्मपुरी चंबल नदी घाटी में पाषाण कालीन मिले हैं।

                 उत्तर प्रदेश

                          सर्वप्रथम प्रागैतिहासिक चित्रों की खोज उत्तर प्रदेश के मिर्जापुर नामक स्थान पर हुई


      इसकी खोज 1880 ईस्वी में कार्लाइल ने की यह विंध्याचल पर्वत श्रेणी की कैमूर पहाड़ी पर सोन नदी के किनारे पर 100 से अधिक चित्र शिलाश्रय प्राप्त हुए हैं चित्रों का मुख्य विषय opet के साथ-साथ घरेलू जनजीवन जो अभी से यह प्रतीत होता है कि यह चित्र है पाषाण काल ​​के अंतिम चरण तक बनाए रखने जा रहे हैं प्रमुख गुफाओं में कोहबर विजयगढ़ भटरिया लिखूनिया कॉनडेवव बागापथरी घोड़ा मंगर आदि मिली है इनमें से घोड़ा मंगर से गैंडे के ऑपटेट का दृश्य महुएरिया से ऊंट के ओपेट का दृश्य भोटिया से सूअर के ओपेट का दृश्य प्रसिद्ध है। यहाँ पर अधिकांश चित्र गेरू रंग से बने हैं

बाँदा

   बांदा में प्रागैतिहासिक चित्रों की खोज 1907 में सिल्वर राट ने की मानिकपुर के निकट प्राप्त एक शिलाश्रय से अश्वारोहियों का चित्र प्राप्त हुआ है यहां से प्राप्त पहिया रहित छकड़ा गाड़ी का चित्र विशेष प्रसिद्ध है

बिहार के गुहा चित्र 

  इस प्रदेश में चक्रधरपुर शाहाबाद आदि स्थानों से लेटे हुए शिकारी नृत्य करती हुई आकृतियां एवं प्रतिकात्मक चित्र प्राप्त हुए हैं

नोट
बिहार के विभाजन के पश्चात चक्रधरपुर वर्तमान में झारखंड में पड़ता  झारखंड में चक्रधरपुर रेलवे स्टेशन पर स्थानीय महिलाओं द्वारा सोहराई चित्र बनाए गए जो झारखंड की संस्कृत का प्रतिनिधित्व करते हैं यहां पर 15 से अधिक जनजातियां पाई जाती है जिनके अलग अलग आर्ट फॉर्म है परंतु वर्तमान में यह परंपरा किताबों और संग्रहालय तक सीमित है

राजस्थान

  चंबल नदी घाटी अलनिया भरतपुर तथा गागरोन से कुछ प्रागैतिहासिक चित्र प्राप्त हुए हैं जिनका का समय लगभग 5000 ईसापूर्व के आसपास का माना जाता है स्थानीय लोग  अलनिया गुफा को सीता जी का मांडा भी कहते हैं

         दक्षिण भारत के ऐतिहासिक चित्रों के केंद्र

बेल्लारी

बेल्लारी गुफा की खोज 1892 ईस्वी में एक अंग्रेज अधिकारी F फासेन्ट ने की। इससे पहले ब्रूसफुट नामक विद्वान ने 1863 में पल्लावरम नामक स्थान से प्रस्तर उपकरणों की खोज की थी यहां आखेट के अतिरिक्त की प्रतीकात्मक चित्रों की बहुलता मिलती है एक गुफा में षटकोण का चिन्ह भी प्राप्त हुआ है पारसी ब्राउन ने इन चित्रों को स्पेन की कोगुल गुफा के समान माना है

बाईनाड के एडकल

    . केरल तमिलनाडु सीमा पर स्थित गुफाओं की खोज एफ फ़ासेन्ट ने 1901 में की यहां से भी बेल्लारी के समान है बील्लास रंगम
    यहां से पाषाण कालीन अवशेषों के अतिरिक्त प्रतिकात्मक चित्र भी प्राप्त हुए हैं

                    प्रागैतिहासिक चित्रों की विशेषताएं

चित्रण विषय

   प्रागैतिहासिक कालीन मानव का अधिकांश समय आखेट में व्यतीत होता था शिकार उसके विचारों एवं मस्तिष्क पर इतना हावी हो चुका था कि वह इनकी स्मृतियों को रेखाओं के माध्यम से पत्थरों पर उकेरता गया आदिम मानव भयंकर जानवरों की शक्ति के सामने अपने को तुच्छ पाता जैसे जैसे उसने अपने ज्ञान और विवेक से इनके ऊपर विजय प्राप्त की वैसे ही उसके द्वारा बनाए गए चित्रों में जानवरों का आकार छोटा होता गया मनुष्य की जीवनशैली में परिवर्तन के साथ ही विषयों में भी परिवर्तन आया जिन पशुओं का वह आखेट करता था उन्हें पालने लगा उनकी सहायता से कृषि करने लगा कृषि के आविष्कार ने मनुष्य की दिनचर्या में व्यापक परिवर्तन किए अब वह बस्तियों में स्थाई रूप से रहने लगा था इस समय के चित्रों के उदाहरण भीमबेटका से प्राप्त ग्राम्य जीवन, पंचपंचमढी से संगीत जा आनंद लेते हुये है

चित्रण प्रविधि

     आदि मानव ने चित्रों में रंग भरने के लिए रंगों को चरबी में मिलाकर किसी रेशेदार लकड़ी या नरकुल की कुची बनाकर चित्रों में भरा है रंगों को मिलाने के लिए जानवरों की हड्डियों का प्रयोग किया जाता था इस काल के मनुष्य ने खनिज रंगों का प्रयोग किया है इनमें लाल पीला काला प्रमुख हैं चित्रों के निर्माण के लिए सर्वप्रथम एक नुकीले पत्थर से आउटलाइन कर ली जाती थी तत्पश्चात उनमें रंग भरे जाते थे इनमें रेखांकन गलत होने पर सुधार की संभावना ना के बराबर थी      

जंगली भैंसा, होशंगाबाद
जंगली भैंसा, होशंगाबाद
 

प्रागैतिहासिक काल से संबंधित कुछ महत्वपूर्ण बिंदु

1 चित्रण का उद्देश्य अपने विचारों को व्यक्त करना था
2 सभी प्रागैतिहासिक चित्र गुफाओं  की छतों वह दीवारों पर बने हैं
3 खनिज रंगों में गेरू रामरज हिरोजी चूना पत्थर खड़िया रसायनिक रंगों में कोयला वनस्पतिक रंगों में हरा रंग आता है 4 प्रायः गुफाओं में चित्रों के अनेक स्तर मिलते हैं चित्रों के निर्माण में सरल रूपों तथा ज्यामिति आकारों का प्रयोग हुआ है
5 भारतीय प्रागैतिहासिक चित्रों की खोज का श्रेय कर्क बार्न एवं कार्लाइल महोदय को दिया जाता है
6 दक्षिण भारतीय गुफा चित्रों की तुलना स्पेन की प्रागैतिहासिक गुफा चित्रों से किया गया है
7 ज्यामितीय  या प्रतीकात्मक चित्रों का विकास नवपाषाण युग काल के अंतिम समय में हुआ
8 प्रागैतिहासिक मानव द्वारा जादू टोने में विश्वास के साक्ष्य प्राप्त होते हैं जैसे स्वास्तिक चतुष्कोण षटकोण
9 चित्रों के निर्माण में कोनी रेखाओं का प्रयोग किया गया है 10 सभी प्राप्त चित्रों को रेखा चित्रों को उचित मानना ​​होगा
11 विभिन्न लोककलाओं और जनजातियों की कलाओं में प्रागैतिहासिक कला के समान आज भी चित्रण देखा जा सकता है
12 विश्व स्तर: सर्वधर्म प्रागैतिहासिक चित्रों की खोज है। 1879 इसवी में अल्तामिरा में और 1880 ईस्वी में भारत में मिर्जापुर नामक स्थान पर हुआ
13 मध्य प्रदेश के कई गुफाओं मे क्षेपाकन पद्धति से चित्रण हुआ है

 पुस्तक

1 चित्रकला भारतीय चित्रकला- पर्सी ब्रूक प्रागैतिहासिक भारत - पिआत
2 भारत की प्रागैतिहासिक पृष्ठभूमि और संस्कृति -DH गार्डन
3 प्रगतिशील भारतीय चित्रकला- डाॅ। जगदीश गुप्त 



भीमबेटका






एक टिप्पणी भेजें

10 टिप्पणियाँ
* Please Don't Spam Here. All the Comments are Reviewed by Admin.
  1. उत्तर
    1. इस टिप्पणी को एक ब्लॉग व्यवस्थापक द्वारा हटा दिया गया है.

      हटाएं
  2. बहुत अच्छा वर्णन... शानदार 👌

    जवाब देंहटाएं

Top Post Ad

Below Post Ad