Ad Code

Ticker

6/recent/ticker-posts

Government College of arts and craft Chennai

गवर्नमेन्ट कॉलेज ऑफ आर्ट्स एण्ड क्राफ्ट्स, चेन्नई (1850 ई.)

madrash college of art




                             इस कला महाविद्यालय की स्थापना 1850 ई. में मद्रास रेजीमेण्ट के शल्य चिकित्सक डॉ. एलेक्जेण्डर हण्टर (Dr. Alexander Hunter) द्वारा “मद्रास स्कूल ऑफ आर्ट" नाम से की गयी। 1852 ई. में स्थानीय यूरोपीय शासन ने इसका संचालन नवीन सम्बोधन गवर्नमेन्ट स्कूल ऑफ इन्डस्ट्रीयल आर्ट" से अपने अधीन कर लिया। 1868 ई. में यहाँ से लगभग 3500 विद्यार्थी कला अध्ययन कर उत्तीर्ण हो चुके थे। 1884 ई. में ई.बी. हैवेल ने प्राचार्य पद ग्रहण कर भारतीय कला परिदृश्य को गहन रूप से प्रभावित किया हैवेल ने 1892 ई. तक यहाँ कला-शिक्षा के उत्तरोत्तर विकास में योगदान दिया। तत्पश्चात् 1929 ई. में मूर्तिकार देवीप्रसाद राय चौधरी प्रथम भारतीय प्राचार्य नियुक्त हुए जिन्होंने स्वऊर्जा का सक्रिय उपयोग यहाँ के कला परिदृश्य में किया। पूर्वी कला शैलियों के साथ आधुनिक कला तत्त्वों का समावेश भी पाठ्यक्रम में किया गया। मछलीपट्टनम में नन्दलाल बोस तथा राजमुंदरी में दमराला रामाराव की उपस्थिति होने के कारण चेन्नई (तत्कालीन मद्रास) कला गतिविधियों का महत्त्वपूर्ण केन्द्र था। 1925 ई. में रामाराव की मृत्योपरान्त उनके अनुगामी तथा अन्य महत्त्वपूर्ण कलाकार देवीप्रसाद राय चौधरी के सानिध्य में कला सृजन करने लगे जो एक महत्त्वपूर्ण चरण था।

महत्वपूर्ण तथ्य

  • मद्रास स्कूल ऑफ आर्ट      1850
  • प्रथम भारतीय प्रधानाचार्य    देवीप्रसाद राय चौधरी
  • पाठ्यक्रम                           BFA, MFA
  • E-mail -finartscollegechennai@gmail.com
             देवीप्रसाद ने चेन्नई में नवीन सांस्कृतिक विचारधारा को एक निश्चित स्वरूप देने के साथ ही बंगाल शैली को भी प्रोत्साहन दिया तथा यूरोपीय प्रभाववादी कलाकारों के विचारों का भी प्रसार किया। तथापि बंगाल स्कूल का चेन्नई की स्थानीय कला परम्परा से कोई साम्य नहीं बन पाया। 1957 ई. में के.सी. एस. पान्निकर के प्राचार्य बनने के साथ ही यहाँ पूर्ण उत्साह से मूर्तिकला के क्षेत्र में अमूर्तन की एक शैली आत्मसात की गयी, जिसमें प्रगतिशीलता, वैयक्तिक अभिव्यक्ति तथा व्यावसायिक मानदण्डों को स्वीकारा गया। तत्पश्चात् यह कला महाविद्यालय उत्तरोत्तर समृद्ध होता गया। 1961 ई. में इसे "गवर्नमेन्ट कॉलेज ऑफ आर्ट्स एण्ड क्राफ्ट्स नाम दिया गया। 1997 ई में यहाँ म्यूजियम ऑफ कन्टम्परेरी आर्ट की स्थापना की गई।

            गवर्नमेंट स्कूल ऑफ इंडस्ट्रियल आर्ट्स में दो और ब्रिटिश अधीक्षक RF CHISOLM और WS HADAWAY थे, लेकिन यह EB HAVELL, एक ब्रिटिश कला शिक्षक और आलोचक थे, जो 1884 में मद्रास स्कूल ऑफ़ आर्ट्स एंड क्राफ्ट्स के प्रिंसिपल के रूप में भारत आए, जिसने इस कला विघालय को महान बनाया। भारतीय कला की सुंदरता और इससे प्रेरित महान विचारों के प्रति उनकी पुष्टि से प्रभावित हुआ। EB HAVELL स्कूल में लकड़ी की नक्काशी, बढ़ईगीरी और धातु कार्य इकाइयों को शुरू किया उन्होंने हथकरघा बुनाई के कारण और पारंपरिक कला और वास्तुकला को संरक्षित करने की आवश्यकता का भी समर्थन किया। उन्होंने भारतीय कला और वास्तुकला के पुनरुद्धार के लिए कुछ व्यावहारिक प्रस्ताव रखे। हैवेल ने 1896 में कलकत्ता स्कूल ऑफ आर्ट के प्रधानाचार्य के रूप में कार्यभार संभालने के लिए मद्रास छोड़ दिया। जब मद्रास स्कूल उद्योग और वाणिज्य निदेशक के अधिकार क्षेत्र में आया NR राव बहादुर  1927 में बालकृष्ण मुदलियार इसके पहले भारतीय अधीक्षक बने। अवनिंद्रनाथ टैगोर के छात्र डीपी रॉय चौधरी ने 1929 में मद्रास स्कूल ऑफ आर्ट्स एंड क्राफ्ट्स के पहले भारतीय प्रधानाध्यापक के रूप में पदभार संभाला। केसीएस पनिकर ने उन्हें 1957 में प्रधानाचार्य के रूप में स्थान दिया और यह उस दौरान था। उनका कार्यकाल कि मद्रास स्कूल ऑफ आर्टर्ट्स एंड क्राफ्ट्स को 1961 में एक कॉलेज में अपग्रेड किया गया था। 1973 में तकनीकी शिक्षा विभाग ने प्रशासन में कदम रखा। प्रधानाचार्य बने श्री एस. धनपाल ने दक्षिण भारतीय पारंपरिक चित्रकला और मूर्तियों के अध्ययन और निर्माण को प्रोत्साहित किया। बी.एससी में नए डिग्री पाठ्यक्रम डिजाइन, बीएफ ए. ललित कला को 1979 में मद्रास विश्वविद्यालय के साथ संबद्धता में पेश किया गया था। इसी तरह कपड़ा, सिरेमिक, पेंटिंग, मूर्तिकला जैसे अन्य विभाग भी स्थापित किए गए थे। तमिलनाडु सरकार ने कला और संस्कृति के क्षेत्र में संरक्षण और मार्गदर्शन के विशिष्ट विचार के साथ कला और संस्कृति विभाग भी बनाया। कला और शिल्प महाविद्यालय, चेन्नई को दिसंबर 1991 में इसके दायरे में लाया गया था। कला और संस्कृति विभाग के तहत, एमएफए-पॅटिंग जैसे पीजी कार्यक्रम को 1999 में पेश किया गया था। अगले वर्ष, दृश्य संचार डिजाइन, सिरेमिक डिजाइन, वस्त्र डिज़ाइन। 2009-2010 के बीच पेश किया गया था और एमएफए-मूर्तिकला पेश किया गया था। गवर्नमेंट कॉलेज ऑफ फाइन आर्ट्स एंड क्राफ्ट्स 2014-2015 के बीच तमिलनाडु संगीत और ललित कला विश्वविद्यालय से संबद्ध हो गया।

पाठ्यक्रम

 मद्रास स्कूल आफ आर्ट में वर्तमान में बैचलर आफ फाइन (BFA) आर्ट स्नातक स्तर पर और मास्टर आफ फाइन आर्ट(MFA) परास्नातक स्तर पर पाठ्यक्रम संचालित किए जा रहे हैं जिनके लिए पेंटिंग मूर्तिकला प्रींटमेकिंग विजुअल कम्युनिकेशन डिजाइन टैक्सटाइल डिजाइन श्रमिक डिजाइन आदि विषयों से उपलब्ध हैं

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ