Ad Code

Ticker

6/recent/ticker-posts

बाल दिवस

     आज बाल दिवस है जैसा कि सभी को विदित है इस दिन देश के प्रथम प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू के वात्सल्य प्रेम अर्थात बच्चों के प्रति प्रगाढ़ प्रेम के कारण उनके जन्मदिवस को बाल दिवस के रूप में मनाया जाता है भले ही आज जवाहरलाल नेहरू इतिहास में एक पात्र के रूप में दर्ज हैं पर उनका अगाध बाल प्रेम उनके व्यक्तित्व कि स्नेहशिलता स्वीकार्यता समानता आदि भावों के कारण आज भी पूर्णरूपेण प्रासंगिक बनी हुई है भले ही कुछ लोग उनके राजनीतिक एवं अन्य प्रकार के प्रकरणों के आधार पर उनकी आलोचना करते रहे हो पर इस प्रश्न में उन पर कोई आरोप नहीं लगा पाया मैं यहां पर पंडित जवाहरलाल नेहरू के गुणों की प्रशंसा करने नहीं बैठा मेरा कार्य उनके प्रति श्रद्धांजलि देना मात्र था जो मैंने प्रस्तावना में भूमिका के आधार पर दे दी है अब मैं इस दिवस की वर्तमान परिस्थितियों पर समालोचनात्मक रूप से विचार करूंगा
     मेरा हमेशा इस बात पर जोर रहता है केवल किसी तिथि को किसी खास मकसद से नामित कर देने से लक्ष्य प्राप्त नहीं होते इस पर हमेशा से रहा है हो सकता है मैं गलत हूं पर इस संदर्भ में इतिहासिक विवरणों को खोजने पर ऐसा ही प्राप्त होता है व्यक्ति को उचित ध्येय को हासिल करने के लिए उचित प्रयास भी करना पड़ता है 
      आज विद्यालय स्तर पर इस दिन सारे छात्र एकत्र होकर बैठते हैं और शिक्षक उनको इस दिन के इतिहास को बता देते हैं मगर यहां पर संदर्भ विचार योग्य तो है ही कि इतिहास को बदला नहीं जा सकता बल्कि उसकी उपयोगिता बस इतनी है अतीत में हुए अच्छे बुरे कार्यों का मूल्यांकन करके वर्तमान और भविष्य में निर्णय लेने में अहम भूमिका निभाये मेरा मानना है इस दिन पर हमें भी अब प्रगतिवादी दृष्टिकोण अपनाना होगा यहां पर प्रश्न यह है कि पहल कौन करे मेरा मानना है शिक्षकों को ही पहल करनी होगी क्योंकि शिक्षक ही अबोध बालकों को अपनी प्रतिभा और कुशलता से बोधता की ओर अग्रसर आता है यह उन्हें भी पता है बच्चों को ऐतिहासिक तथ्यों का स्मरण करना अच्छी बात है पर तकनीकी युग में किसी के लिए इस संदर्भ में ऐतिहासिक तथ्य एकत्र करना या पढ़ना कितना सरल है तब आप कैसे उन्हीं रटी रटाई बातों के द्वारा का मार्गदर्शन कर पाएंगे
     बहुत से लोगों का तर्क है यह तो बच्चों का दिन है इस दिन वह जो चाहे कर सकते हैं यह धारणा बच्चों में धीरे-धीरे घर भी करती जा रही है कुछ हद तक सही भी है पर ऐसा ही माहौल कुछ दशकों तक और चलेगा तो सामाजिक और शैक्षिक दृश्य भी व्यापक परिवर्तन भी देखने को मिलेंगे यहां पर विचार करने योग्य तथ्य है बच्चे तो सीखने की प्रक्रिया में हैं भला उन्हें स्वतंत्र कैसे छोड़ा जा सकता है हां इतना अवश्य ध्यान रखना चाहिए उनकी प्रतिभा प्रभावित ना हो बल्कि उसे उचित रूप से प्रशिक्षित किया जा सके मगर यह जितना उनका दिन है से कहीं अधिक हमारा
     समाज और संस्थाओं को हमेशा ध्यान रखना चाहिए बाल दिवस को सिर्फ बालकों का दिन नहीं है यह हमारे सम्मुख जिम्मेदारियों  का भी बोध कराने का दिवस है यही बच्चे आने वाले समय में हमारे देश का भविष्य बनेंगे इनकी प्रगति ही निर्धारित करेगी हमारा समाज और राष्ट्र कैसा हो होगा यही उचित अवसर है कि हम सब मिलकर प्रतिज्ञा करें कि बालकों के प्रति हमारे शैक्षिक एवं सामाजिक कर्तव्यों का उचित रूप से निर्वहन करेंगे क्योंकि यह समस्या किसी एक की न होकर सारी मानव सभ्यता की है
       आज हमारे सम्मुख विभिन्न माध्यमों से सूचनाएं आती रहती हैं जिन्हें सुनकर देखकर एवं पढ़कर मन विचलित हो जाता है देश के प्रत्येक भाग में शोषण की इस कहानी का कोई न कोई बालक जाने अंजाने में पात्र बनता रहता है इन अपराधों के पीछे कई कारण है बढ़ती जनसंख्या भुखमरी बेरोजगारी अशिक्षा एवं क्षेत्रीय कारण भी कार्य करते हैं एक सभ्य समाज जो स्वयं को प्रगतिशील कहता है उन्हीं के लिए एक दिन को समर्पित करता है पर इस शोषण के विरुद्ध कोई ठोस कदम नहीं उठाता है जो प्रयास हुए भी हैं वह मात्र सरकारी फाइलों में बंद होकर रह गए हैं अगर स्थिति यही है तो मानना पड़ेगा कि किसी को इस दिन भी नौनिहालों के ऊपर हो रहे अत्याचारों की कोई परवाह नहीं है यह देखकर स्वर्ग में बैठे पंडित जवाहरलाल नेहरू दुखी जरूर होते होंगे और कहते होंगे मैंने तो ऐसे भविष्य की कल्पना नहीं की थी मेरे देश का भविष्य किस अंधकार की तरफ जा रहा है
      जो भी हो अब मैं अकादमिक छात्रों की बात करूंगा सारी शैक्षिक संस्थाओं में बड़े धूमधाम के साथ बालदिवस मनाया जाता है जब मैं पढ़ता था तब से आज तक हर साल इस दिवस को मनाया जा रहा है पर समस्या ज्यों की त्यों बनी हुई है सारी संस्थाओं का लिखित ध्येय बालक का संपूर्ण विकास है पर व्यावहारिक दृष्टिकोण इससे इतर है पूरे साल अच्छे नंबर कैसे आएंगे इसी पर ध्यान केंद्रित रहता है उसकी व्यक्तिगत प्रतिभा का कोई आदर सम्मान नहीं है जैसे उसके पिताजी ने शिक्षा ग्रहण की थी उसी पद्धतियों के अनुसार उसको भी शिक्षित किया जा रहा है ऐसी स्थिति वर्तमान परिस्थितियों के लिए काफी हद तक हानिकारक है जो समय की मांग को पूरा करने में असमर्थ है जिस ढंग से रोजगार के साधन बदल रहे हैं उस तेजी और तरीकों से संस्थाएं अपनी संरचना और उद्देश्यों को व्यवहारिक रूप में नहीं बदल पाई हैं
       बालकों को सिखाने के लिए जिन परंपरागत माध्यमों का आज हम प्रयोग कर रहे हैं वह भी सही हैं पर हमें जरूरत है अभी से भविष्य की आवश्यकताओं के अनुसार उनको तैयार करने की इसके लिए संसाधनों को बढ़ाने और अपनी क्रिया पद्धति भी बदलनी होगी किसी भी राष्ट्र की नीव वहां की प्रगतिशील तथा कुशल  जनशक्ति रखती है इस समय हमें इसी पर अधिक से अधिक जोर देना होगा तभी बाल दिवस  वास्तव में सार्थक हो सकता है
    कहते हैं इतिहास स्वयं अतीत में जीता है यह पूर्णरूपेण सत्य भी है पर हमें यह नहीं भूलना है कि वह वर्तमान और भविष्य को भी प्रभावित करता है इसलिए हम सब का सामूहिक कर्तव्य है कि इस बाल दिवस पर बालकों में नैतिक चारित्रिक एवं आधुनिक तकनीकी पक्षों का विकास हो इसके लिए हमें कर्तव्यों के प्रति पूर्णरूपेण समर्पित होना पड़ेगा अगर हम सब ऐसा कर सके तो उस महापुरुष के प्रति सच्ची श्रद्धांजलि होगी साथ ही बाल प्रतिभा के प्रति न्याय कर पाएंगे जो आने वाले में समाज और देश के लिए अत्यधिक लाभकारी होगा इस बाल दिवस पर आवश्यकता है ऐसा उदाहरण सेट करने की जिससे समाज इसके वास्तविक लक्ष्यों तक पहुंच सके।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ