Ticker

6/recent/ticker-posts

Advertisement

Sarada Charan Ukil


शारदा चरण उकील

      दिल्ली की आधुनिक चित्रकला को निश्चित दिशा देने वाले कलाकारों में को शारदा चरण उकील का नाम काफी सम्मान के साथ लिया जाता है अपनी आरंभिक शिक्षा बंगाल स्कूल ऑफ आर्ट से कला में पूर्ण की वहां पर कला गुरु अवींद्रनाथ से विशेष कला शिक्षा प्राप्त की शारदा बाबू ने अपने गुरु से कला की बारीकियां सीखी तथा वास शैली का भी  विशेष अध्ययन किया और अवींद्रनाथ ठाकुर कभी भी किसी शिष्य को विषयवस्तु के चुनाव और शैली के प्रयोग को लेकर किसी प्रकार का कोई हस्तक्षेप नहीं करते थे गुरु का यही स्वतंत्र स्वभाव शारदा चरण के व्यक्तित्व के विकास में सहायक रहा
  • जन्म      14 नवम्बर 1888 विक्रमपुर ढाका बांग्लादेश
  • मृत्यु       21 जुलाई 1940 दिल्ली
  • शिक्षा     बंगाल स्कूल ऑफ आर्ट
  • गुरु        अवींद्र नाथ टैगोर
  • पुरुस्कार 1930 - 31 वायरसराय गोल्ड कप, 1940 ऑल इंडिया फाइन आर्ट एंड क्राफ्ट सोसायटी नई दिल्ली
  • शिक्षक     1912-17 गैरीपुर असम,1918 दिल्ली आर्ट कॉलेज, 1926 सारदा उकील ऑफ आर्ट दिल्ली
  • पत्रिका     रुपलेखा
chaitnya sarda charan ukil
chaitnya by s c ukil
ngma-delhi

       शारदा चरण वकील का जन्म 1888 ईस्वी में विक्रमपुर ढाका बांग्लादेश में हुआ था बंगाल स्कूल से शिक्षा ग्रहण कर अपना रुख देश की राजधानी की तरह किया यहां पर 1926 में शारदा चरण वकील स्कूल ऑफ आर्ट की स्थापना की भारत विभाजन के साथ पंजाब क्षेत्र से आए कलाकारों से पहले उकील कला बंधु ही यहां की कला गतिविधियों को बढ़ाया करते थे इससे पहले दिल्ली में मुगल शैली से संबंधित कलाकृतियां बनती थी उकील साहब ने वाश शैली में पेंटिंग बनाने प्रारंभ किया

    शारदा चरण वकील की शैली यद्यपि वास थी फिर भी सदैव प्रयोगवादी कलाकार बने रहे उनकी शैली में रोमांटिक प्रभाव दिखाई पड़ता है इनकी शैली पर ईरानी और मुगल शैली का प्रभाव भी स्पष्ट रूप से दिखाई देता है शारदा चरण उकील सदैव अपनी कला शैली से निजस्व की भावना को बचाए रखा एक प्रयोगवादी कलाकार की तरह सदैव नवीनता के लिए व्याकुल दिखे शैली की नवीनता ही विषय को और अधिक प्रभावशाली बना देती है यह इनकी चित्र प्रक्रिया का प्रमुख अंग है

        शारदा चरण वकील ने ऐतिहासिक और पौराणिक विषय पर अधिकतर चित्र बनाए हैं बुद्ध और राधा एवं कृष्णा के प्रसंग पर आधारित अपनी तूलिका से प्रतिक्रिया व्यक्त की है विषय का चुनाव आम जीवन का था पर प्रतिक्रिया दार्शनिक मूल्यों से परिपूर्ण थी कलाकार ने चित्रों में व्यंजना की एक ऐसी कोमल और सुमधुर प्रभावपूर्ण भाषा का निर्माण किया है जो व्यक्ति के अंतर मन में भाव जागृत करने में सफल होती है दर्शक को परम सुंदरता की ओर ले जाती है तथा प्रस्तुति और उसमें निहित दार्शनिक आध्यात्मिक मूल्य से परिचित कराती है

      शारदा चरण उकील के ऊपर बुद्ध का प्रभाव बाल्यकाल से ही पड़ा जो जीवन पर्यंत बना रहा उन्होंने स्वयं कहा था जब मैं बालक था तभी से बुद्ध से सहज लगाव हो गया बड़ा होकर भी अभी तक उस प्राथमिक आकर्षण का विश्लेषण नहीं कर सका बुद्ध की जीवन साधना त्याग मानव कल्याण विराट स्वरूप जो संसार के सभी दुखों को दूर करने को तत्पर हो कुछ इसी प्रकार की व्यंजना शारदा चरण उकील के चित्रों में दिखाई देती है नायक नायिका के माध्यम से भी कलाकार ने पीड़ा दुख विशाल उल्लास हर्ष एवं विभिन्न विधियों की सुंदर प्रस्तुति है जिनकी धूमिल वर्णिका तथा स्पष्ट रेखाएं और अधिक रहस्यमय बना देती हैं संदेश शीर्षक चित्र में एक गोपी कृष्ण की आंखों को निहार रही है कृष्ण को बादलों द्रशाय गया हैं कृष्ण और गोपियों के मध्य श्रेष्ठ प्रेम का परिचायक है शारदा चरण उकील ने अपना दृष्टिकोण कला के प्रति स्पष्ट करते हुए कहा अगर कोई यूरोपीय कलाकार किसी वृक्ष को चित्रित करता है तो वह वृक्ष की शाखाएं पत्तियां हुबहू वैसे ही चित्रित करता है जैसे वृक्ष में होती हैं इसके विपरीत अगर कोई भारतीय कलाकार उसी पेड़ को चित्र करता है तो वह पत्ती या ताना बनाने के साथ साथ वह उसमें आत्मा का भी बोध कराता है

ruplekha
ruplekha-s c ukil


       शारदा चरण उकील ने तूलिका पर अपना एकाधिकार स्थापित कर लिया जिनके माध्यम से अपने जीवन के अनुभव को रेखाओं और रंगों की सहायता से व्यंजनात्मक भाषा का विकास किया तो दूसरी तरफ शब्दों के माध्यम से लेखनी से भी सशक्त अभिव्यक्ति के दर्शन कराए हैं दिल्ली में रूपलेखा पत्रिका का संपादन किया है जो आज भी आल इंडिया फाइन आर्ट क्राफ्ट सोसायटी नई दिल्ली द्वारा प्रकाशित की जा रही है

    शारदा चरण उकील ने दिल्ली में कला गतिविधियों को पुनः स्थापित करने में महत्वपूर्ण योगदान दिया नित्य नए-नए प्रयोगों ने जहां पर इनकी कला की भाषा को और अधिक प्रभावशाली बनाया वहीं दूसरी ओर अपने देश परंपराओं को भी आगे बढ़ाया

नोट 

1925 light of Asia नामक आधारित प्रेम सन्यास फिल्में शुद्धोधन का किरदार निभाया था इस फिल्म के निर्माता Frenz Osten और himanshu rai थे

पेंटिग 

                 शारदा चरण उकील ने जीवन के अंतिम समय में श्री कृष्ण के जीवन से संबंधित 31

चित्रों
की एक वृहद संख्या तैयार की थी जो श्री गोपाल जी मंदिर बिलासपुर, हिमाचल प्रदेश के मंदिरों के लिए बनाए गए थे

   वंशीवादक,दूज का चांद, ईद का चांद, संदेश, जटायु की मृत्यु, brith of Buddha- pencil on paper, spring bride बसंत बधु - वाश, journey of Shiva and Sita वाश, 

टिप्पणी पोस्ट करें

1 टिप्पणियां