Ad Code

Ticker

6/recent/ticker-posts

Jogimara cave


जोगीमारा गुफा चित्रकला


जोगीमरा की गुफाएँ

जोगीमारा गुफा

           जोगीमारा की गुफ़ा  भारतीय भित्तिचित्र निर्माण की परंपरा में सबसे प्राचीन हैं जोगीमारा की वर्तमान में छत्तीसगढ़ राज्य के सरगुजा जिले में रामगढ़ की पहाड़ियों पर 70 मीटर की ऊंचाई पर स्थित है नर्मदा नदी के उद्गम स्थल के निकट अमरनाथ नामक स्थान पर स्थित है नर्मदा नदी का। प्राकृतिक वैभव दर्शकों को सदैव लुभाता रहता है

जोगीमारा की गुफाओं का समय

       जोगीमारा की गुफाओं का समय 300 ईसा पूर्व माना जाता है इन गुफाओं का निर्माण मौर्य शासक अशोक के द्वारा किया गया डॉ ब्लॉक ने जोगीमारा के चित्रों का समय तीसरी शताब्दी ईसा पूर्व का माना है जबकि कुछ अन्य विद्वान इनका समय दूसरी शताब्दी ईसा पूर्व निर्धारित किया है। है जोगीमारा के चित्रों पर भरहुत और सांची की मूर्ति कला का स्पष्ट रूप से प्रभाव दिखाई पड़ता है इसीलिए इन चित्रों को प्रथम शताब्दी ईसा पूर्व के बाद का नहीं माना जा सकता है विन्सेंट स्मिथ ने जोगीमारा के महल चित्रों का समय पहली शताब्दी ईसा पूर्व का निर्धारित किया है। है


Jogimara cave

जोगीमारा गुफा


जोगीमारा की गुफाएं

       रामगढ़ का भगवान राम और कालिदास से विशिष्ट संबंध रहा है यहां पर जोगीमारा सीता लंगड़ा या सीता बोंगरा और लक्ष्मण गुफा स्थित है जोगीमारा की गुफाओं में सुतनुका नामक देवदासी करती है जो देवीदीन से प्रेम करती थी जिससे नाटिका के अधिकारियों ने उसे दंडित किया। बोंगरावेव में रहने के लिए भेज दिए गए यहीं पर उसने भित्ति पर चित्र निर्मित किए ऐसे किदवंती प्रचलित है पास में मिले अभिलेख के अनुसार यह वरुण देवता का मंदि र था राय कृष्णदास ने जोगीमारा के कुछ चित्रों को जैन धर्म से संबंधित माना है।

जोगीमारा के चित

           जोगीमारा के चित्रों को अजंता गुफा चित्रों का पूर्वज माना जाता है गुफा 10x6x6 आकार की है अब चित्रों के अवशेष केवल छत पर ही प्राप्त होते हैं इन चित्रों को बाद में पुनः सुधारने का असफल प्रयास किया गया है जोगीमारा के चित्र निम्नलिखित हैं।

1 कुछ मानव आकृतियां एक हाथी मछली का चित्र है जो लहरदार पानी में चित्रित किया गया है लहरदार रेखाएं चंचलता और गति का भाव प्रकट करती हैं चित्र में काले सफेद लाल रंग का प्रयोग किया गया है।
2 एक मोटे तने वाले वृक्ष में कुछ शाखाएं निकली हुई है जिसमें एक दो पत्तों कीिट हैं पत्तियों के चित्र में लाल रंग का प्रयोग किया गया है और वृक्ष के नीचे कुछ व्यक्ति विश्राम कर रहे हैं।
3 बाग का एक दृश्य है जिसमें एक युगल कमलिनी पुष्प पर नृत्य कर रहा है जिसमें लाल रंग का प्रयोग किया गया है जो प्रेम का प्रतीक है
4 कुछ आदमियों को काले लाल रंग की रेखाओं द्वारा यह किया गया है जिनके सिर पर पक्षी की चोंच बनाई गई है
5 उत्सव का एक चित्रांकन किया गया है जिसमें एक लेटी हुई स्त्री के चारों ओर लोग नृत्य कर रहे हैं
6 प्राचीन रथो का चित्रण है, लेकिन यह चित्र धूमिल हो चुका है
7 कुछ मार्गों का चित्रण किया गया है लेकिन अब यह चित्र अत्यधिक धूमिल हो चुका है

नोट 

     विंसेंट स्मिथ ने जोगीमारा में 4 सबसे सुरक्षित चित्रों का वर्णन किया है, लेकिन असित कुमार हलदार और क्षेमेन्द्र ने 7 चित्रों को वर्णित किया है।

जोगीमारा के चित्रों की विशेषताएं

1 जोगीमारा के चित्र सफेद पृष्ठभूमि पर लाल रंग से अंकित किए गए हैं रेखांकन के लिए काले रंग का प्रयोग किया गया है
2 चित्रों में लयात्मक और गति पूर्ण रेखांकन का प्रयोग किया गया है 
2 चित्रण का विषय तत्कालीन सामाजिक परिवेश को दर्शाता है और संयोजन अत्यंत प्रभाव पूर्ण और आकर्षक है 3 चित्र में प्रमुख नियम या कानून के नियम के सिद्धांत का प्रयोग किया गया है।

जोगीमारा की प्रतिलिपि तैयार करने वाले कलाकार

1914 में असित कुमार हल्दार और क्षेमेंद्र गुप्त ने जोगीमारा के चित्रों का अह & तैयार स्थानांतरणिया प्रस्तुत डॉ ब्लॉक और विंसेंट स्मिथ ने जोगीमारा के चित्रों का अध्ययन कर श्रद्धापूर्वक प्रस्तुत किया। 

   छत्तीसगढ़ के सरगुजा जिले में जोगीमारा के अतिरिक्त देवगढ़, कैलाश मंदिर, बौद्ध मंदिर मैनपाट , महेशपुर, ठिनठिनी पत्थर आदि प्रमुख स्थल हैं।

रामगढ़ वन प्रवेश द्वार
रामगढ़ वन प्रवेश द्वार

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ