Ad Code

Ticker

6/recent/ticker-posts

गणतंत्र दिवस पर कुछ खास करें

        गणतंत्र दिवस



https://historyoffineartdk.blogspot.com/2020/01/blog-post_27.html
तिरंगा 


https://historyoffineartdk.blogspot.com/2020/01/blog-post_27.html
तिरंगा 

                                 सूरज हर दिन निकलता है पर आज का कुछ खास था खास इसलिए क्योंकि आज के दिन ही हमारे देश का संविधान लागू हुआ था 26 जनवरी के इस पावन पर्व को हम गणतंत्र दिवस के रूप में मनाते हैं गणतंत्र का अर्थ है प्रजातंत्र लोकतंत्र या जनतंत्र है साधारण शब्दों में हम लोकतंत्र को परिभाषित करते हुए कह सकते हैं कि देश में जनता का शासन हो या उसके द्वारा निर्वाचित लोग देश को प्रगति पथ पर आगे बढ़ाएं पर यही सबसे महत्वपूर्ण तथ्य भी है जनता किसी गणतंत्र की महत्वपूर्ण कड़ी है देश किस दिशा में जाएगा यह केवल कोई राजनेता नहीं निर्धारित करता बल्कि उस राष्ट्र के आम लोग निर्धारित करते हैं अतः हमें व्यक्तिगत रूप से लगता है कि राष्ट्र के प्रत्येक नागरिक को आत्मचिंतन करना चाहिए क्या हम सब अपने कर्तव्यों का सम्यक निर्वाहन कर पा रहे हैं या नहीं पर इतना सारे देशवासियों को हमेशा बोध रखना चाहिए लोकतंत्र की असली शक्ति आपके पास है जब तक आप उसको बिना किसी राग द्वेष के तटस्थ होकर हाथों में केवल राष्ट्रप्रेम के लिए अपने जनप्रतिनिधियों को चुनेगें तब तक राष्ट्र तीव्रता के साथ प्रगति पथ पर बढ़ेगा अगर आप ऐसा नहीं कर पा रहे हैं तो किसी नेता या नीतिनियंता पर केवल आरोप-प्रत्यारोप से सुधार नहीं होगा चाहे चुनाव जिसका भी कर लो हमेशा ख्याल रखो लोकतंत्र के मालिक जनता है जब तक मालिक को अपनी परिवार की चिंता नहीं है तो फिर दूसरे से व्यर्थ उम्मीद क्यों करनी

https://historyoffineartdk.blogspot.com/2020/01/blog-post_27.html
झांकी पश्चिम बंगाल
                 आज हम सब का कर्तव्य है कि इस पावन पर्व की बेला पर प्रण ले कि संविधान की मर्यादाओं में रहकर अपना जीवन निर्वहन करूंगा इसका केवल एक ही उद्देश्य होगा राष्ट्र निर्माण जो किसी भी प्रकार से हो सकता है यह मैं इसलिए कह रहा हूं क्योंकि देश के सम्मुख वर्तमान में एक प्रकार का संवैधानिक संकट खड़ा हो गया संविधान बचाने के नाम पर जो कुछ हो रहा है इससे ज्यादा निंदनीय कुछ नहीं है पर हमारे नीति नियंता इस सत्य को मारने के लिए तैयार नहीं है चाहे पक्ष के हो या विपक्ष के कुछ समय पूर्व संसद से पारित कानूनों को लेकर जिस तरह विरोध हो रहा है कहीं से उसे सही नहीं कहा जा सकता है पर केवल लोकतंत्र में विरोध होना चाहिए सरकारों का विरोध और आंदोलन उन्हें निरंकुश होने से रोकते है और लोकतंत्र को और अधिक मजबूत करते है पर आज विरोध के नाम पर जो हो रहा है वह काफी दुखद है इस समय अन्ना के आंदोलन को याद करना जरूरी है जो देश के हर प्रांत में समान रूप से फैला गांव व शहरों में बढ़-चढ़कर लोगों ने हिस्सा लिया देशव्यापी जनसमर्थन के बाद भी आंदोलन में न तो कहीं भी सड़के जाम की गई और न कहीं किसी प्रकार की हिंसा दिखाई दी शायद गांधी के देश में ऐसा ही आंदोलन होना चाहिए जो राष्ट्र को सही दिशा दिखा सकता है पर वर्तमान समय में गांधीजी का नाम केवल वक्तव्य देने तक ही सीमित कर दिया गया है उनको पढ़ने विचारों पर चलने की बात तो आप छोड़ ही दो
https://historyoffineartdk.blogspot.com/2020/01/blog-post_27.html
भातीय डाक टिकट

                        थोड़ी देर के लिए मान भी लें सरकार ने कोई संविधान विरोधी कानून पास किया है तो भी देश की सर्वोच्च न्यायपालिका पर भरोसा रखना चाहिए अगर ऐसा वास्तव में है तो वह उस कानून को अवश्य निरस्त करेगी इसमें कोई दो राय नहीं है देश के नागरिकों को आवाज भी उठानी चाहिए पर वह आवाज सभी देशवासियों की होनी चाहिए जो अभी कुछ साल पहले हुए अन्ना आंदोलन जैसी हो जहां पर हिंसा की कोई जगह न हो किसी नागरिक को कोई कष्ट ना हो यहीं पर देश के विद्वान वर्ग की भूमिका महत्वपूर्ण हो जाती है साथ ही कुछ राजनेताओं की चांदी जो केवल इसलिए इन लोग बीच पहुंचते हैं जिससे जनता की सहानुभूति प्राप्त कर सकें और यह दिखाते हुए अक्सर पाए जाते हैं कि वह जनता के सच्चे हितैषी हैं पर हम सबको बीते हुए समय से भी कुछ सीख लेनी चाहिए कि उन्होंने हम सब के लिए वास्तव में क्या कार्य किए हैं इस नियम के अपवाद कुछ नेता आज भी हो सकते हैं पर नेताओं का एक चरित्र तो जगजाहिर है कि वह वही कार्य करते हैं जिनसे उन्हें चुनाव में लाभ हो
https://historyoffineartdk.blogspot.com/2020/01/blog-post_27.html
झांकी दिल्ली 

                  कभी-कभी देश के बुद्धिजीवियों से शिकायत भी होती है कि वह अपने आप को किसी न किसी राजनीतिक पार्टी से प्रत्यक्ष अप्रत्यक्ष रूप से संबंध स्थापित कर लेते हैं ऐसे में वह तटस्थ होकर अपना विचार रख पाएंगे मुझे लगता है संभव नहीं है लोकतंत्र में प्रबुद्ध लोगों की भूमिका महत्वपूर्ण होती है वह वर्तमान में स्थित किस प्रकार का भविष्य में परिणाम देगी इस प्रकार का अनुमान लगा सकते हैं ऐसा नहीं है सामान्य व्यक्ति ऐसा नहीं कर पाएगा पर इसके लिए अध्ययन की आवश्यकता तो होती ही है पक्ष और विपक्ष के तर्कों को तथ्यों की कसौटी पर जो सत्यता को परखता था वह  आज लुप्त सा हो गया है जिससे समाज में आज क्या उचित अनुचित का बोध कराने वाला कोई नहीं है यही कारण है कि पक्ष विपक्ष में खड़े लोग अपने पक्ष को सही मानते हैं उदाहरण के तौर पर अभी  की घटनाओं को देखकर समझा जा सकता है ऐसी स्थिति राष्ट्र के लिए अत्यधिक हानिकारक होती है यहीं पर बौद्धिक वर्ग की भूमिका महत्वपूर्ण हो जाती है यही सही समय है जब सही गलत को तटस्थ रूप से तर्कों के ऊपर रखकर परखा जाता है फिर बिना किसी राग द्वेष के देश के सम्मुख अपने विचारों को रखते हैं सारा देश ऐसे लोगों पर विश्वास भी करता है इतिहास तो यही बताता है कोई विद्वान तब तक इन भावों से मुक्त नहीं हो सकता जब तक स्वयं की प्रसिद्धि की लालसा से अपने आप को मुक्त ना कर ले
                                लोकतंत्र का सबसे महत्वपूर्ण अंग जनता होती है इसीलिए इसका शिक्षित एवं स्वस्थ होना महत्वपूर्ण है इसका दायित्व सरकारों का है पर दायित्व वही समझेगा जो पद के योग्य हो अमूमन चुनाव के समय हम सब देशवासी धर्म जातियों के आधार पर विभक्त हो जाते हैं अपने समुदाय के लोगों को ही अपना प्रतिनिधि देखना चाहते हैं यह 100% सत्य भी है और आंकड़े भी यही बताते हैं यहीं महत्वपूर्ण प्रश्न हमारे सम्मुख खड़ा होता है जब हमारा चुनाव निष्पक्ष नहीं है तो फिर चुने हुए प्रतिनिधि के कार्य कैसे निष्पक्ष होंगे आप स्वयं विचार करें इस संदर्भ में कुछ अधिक नहीं कहना चाहता हूं हां पर इतना अवश्य कहूंगा कि इस देश के लोग जितना अधिक योग्य शिक्षित तथा नए दृष्टिकोण वाले व्यक्तियों को चुनकर सरकार चलाने का अवसर देंगे राष्ट्र उतना ही आगे जाएगा देश का जन सामान्य जितना तटस्थ होकर सरकारों को चुनेगा का वह देश उतना ही प्रगतिशील बनेगा और समृद्धि प्राप्त करेगा तथा संविधान उतना ही मजबूत और सशक्त होगा 
https://historyoffineartdk.blogspot.com/2020/01/blog-post_27.html
झांकी दिल्ली 

                                       यह दुर्भाग्य नहीं तो क्या है देश को आजाद हुए इतने वर्षों के बाद भी शिक्षा स्वास्थ्य सुरक्षा जैसे मुद्दों पर ना कभी चुनाव हुआ और ना ही हमारे राजनेताओं समाजसेवियों एवं धर्म गुरुओं ने यहां तक हम सब ने भी आवाज नहीं उठाई आंदोलन की तो बात आप रहने दीजिए क्योंकि शिक्षा समानता का संचार करती है सभी को तर्क वितर्क करने की शक्ति प्रदान करती है व्यक्ति स्वयं उचित अनुचित निर्णय ले सकता है अगर ऐसा हुआ तो झूठ और दुष्प्रचार के बल पर हम पर राज करने वालों का क्या होगा आप स्वयं से और विद्वान जनों से यह प्रश्न अवश्य करिएगा क्या संविधान में हमें शिक्षा स्वास्थ्य सुविधाओं का उल्लेख किया गया है या नहीं अगर किया गया है तो वह आज तक व्यवहार में फलीभूत क्यों नहीं हुई इस संदर्भ में कुछ आंकड़ों के अलावा आपको क्या बताते हैं इस पर गौर करिएगा लोकतंत्र को जनता मजबूत करती है इसके लिए  सभी का शिक्षित होना अत्यधिक आवश्यक है इसका दूसरा पहलू भी है जो शायद आप नहीं देख रहे हैं जिनको हम अपना प्रतिनिधि मानते हैं वह हर प्रकार से सक्षम होते हैं वह अपने बच्चों की शिक्षा के लिए एक समांतर व्यवस्था को जन्म देते हैं जहां पर उनके बच्चे पढ़ लिखकर अच्छे पदों पर जाते हैं वही जनसामान्य के लिए जिन विद्यालयों की व्यवस्था सरकारों द्वारा की जाती है वहां पर सामान्य श्रेणी की सुविधाएं भी उपलब्ध नहीं होती आधुनिक संसाधनों की बात तो बस दिवा स्वप्न जैसा ही लगता है आप कागज पर शिक्षित अवश्य हैं लेकिन आपको वह दृष्टिकोण कभी नहीं मिलेगा जिससे आप अपने भावी जीवन में प्रगति कर सकें जो आपके अंदर की प्रतिभा है 
https://historyoffineartdk.blogspot.com/2020/01/blog-post_27.html
झांकी महाराष्ट्र
            आज इस गणतंत्र दिवस पर हम सब का कर्तव्य है चाहे हम किसी भी व्यवसाय से जुड़े हो अपने कर्तव्यों का निर्वहन ईमानदारी पूर्वक करना है जिससे देश प्रगति पथ पर आगे चल सके आने वाली समस्याओं को जड़ से समाप्त करने के लिए एक ऐसा दृष्टिकोण विकसित करना है जो रूढ़ियों से मुक्त हो जिसमें भविष्य में आने वाली चुनौतियों का समाधान छिपा हो या देश हम सबका है इसीलिए प्रयास भी हम सभी को करना होगा किसी दूसरे से उम्मीद करना व्यर्थ है आओ हम सब मिलकर एक ऐसे परिवेश का सर्जन करें जिसे देख कर आने वाली पीढ़ियां गर्व कर सकें और वह जब कहीं विदेशों पर भ्रमण में जाए तो गर्व से कह सकें हम भारतीय हैं ऐसा करने से ही संविधान बचेगा ।

       जय हिंद

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ