Ad Code

Ticker

6/recent/ticker-posts

संस्थापन कला instalation art

   संस्थापन कला अभिव्यक्ति की एक नई विधा है जो कलाकार को अपने कार्य को करने की और अधिक स्वतंत्रता प्रदान करती है इसमें कलाकृति और दर्शक दोनों का पृथक अस्तित्व ना होकर एक पूर्ण कृति का दोनों को मिलाकर निर्माण होता है इसके विपरीत चित्र और मूर्तियों का अपना स्वतंत्र अस्तित्व होता है जबकि संस्थापन कला  दर्शक के आने पर अपनी सक्रिय अवस्था में आती है यहां पर यह महत्वपूर्ण हो जाता है कि क्या संस्थापन कला स्वयं कभी सक्रिय नहीं होती बल्कि निष्क्रिय अवस्था में रहती है लेकिन ऐसा सोचना भी गलत होगा संस्थापन कला और मूर्तिकला तथा चित्रकला में एक आधारभूत अंतर है अंतिम दोनों को दर्शक आलोकित कर सकता है पर उसका वह स्वयं हिस्सा नहीं बन पाता है इससे मेरा आशय कृति का स्वयं को अंग मान लेना है कला दीर्घा में जाकर चित्र मूर्तियों को देखने का आनंद तथा कृतियों में निहित संदर्भों और सौंदर्य का रसपान किया जा सकता है पर  चित्र या मूर्ति में दर्शक को कोई स्थान नहीं मिलता क्योंकि यह दोनों माध्यम दर्शकों के लिए स्थान नहीं छोड़ते इसीलिए मैं कह रहा हूं यह दोनों माध्यम स्वयं में पूर्ण या सक्रिय रहते हैं तथा इन दोनों को छूकर या देखकर ही महसूस किया जा सकता है इनके स्पेस में जाकर इनका अंग बनाना अभी तक संभव नहीं हो पाया है

   संस्थापन कला उपरोक्त दोनों से भिन्न है यह भी कह सकते हैं कि यह विधा सभी कलाओं का संगम स्थल है इस माध्यम  में जो  भी कलाकृति बनती है वह अपने आप में दर्शकों को समाहित करने के लिए स्पेस प्रदान करती है दर्शक जब इस स्थान पर आकर उसे भर जाता है तो वह  पूर्ण हो जाती हैं इसीलिए मैं इस विधा में दर्शक को कलाकृति का अंग मानने का पक्षधर हूं यह मेरे दिमाग की पूरी कल्पना मात्र नहीं है वरन एक दर्शक के स्तर से स्वयं लिया गया अनुभव है कला दीर्घा नई दिल्ली के बाहर सुबोध गुप्ता के द्वारा निर्मित संस्थापन कला का उत्कृष्ट उदाहरण उपलब्ध है आप स्वयं जाकर अनुभव कर सकते हैं तथा वही डी पी राय चौधरी की श्रम पर विजय की मूर्ति शिल्प भी है उसका अवलोकन कर इन दोनों के अन्तर को  और अधिक स्पष्ट तौर  पर आत्मसात कर पाएंगे

    अब मैं संस्थापन कला के इतिहास पर बात करूंगा आज यह विधा हमारे सम्मुख अपने नवीन कलेवर के रूप में उपलब्ध है पर जो हम संस्थापन कला  का आज स्वरूप देख रहे हैं वह हमारी परंपराओं और रीति-रिवाजों के अवसर पर निर्मित होने वाली विविध प्रकार की आकृतियों का ही विकसित स्वरूप है शादी विवाह के अवसरों पर बनाए जाने वाले मंडप होली के अवसर पर होलिका की स्थापना नवरात्र में दुर्गा की मूर्तियां पंडालों की साज-सज्जा राम नवमी के अवसर रावण के पुतलों का निर्माण  मंचन सांझी कला मुहर्रम पर ताजियों का उत्सव आदि कुछ इसी कला के उदाहरण हैं परंतु तत्कालीन समय में इनका आयोजन सामूहिक भावनाओं को प्रकट करने के लिए किया जाता था परंतु आज संस्थापन कला या इस नवीन विधा के द्वारा व्यक्तिगत भावनाओं एवं  विचारों को प्रकट रूप देने का माध्यम बनी हुई है

       बीसवीं शताब्दी के प्रारंभिक दौर में यूरोप में कला का स्वरूप लगातार बदलता जा रहा था और अभिव्यक्ति के नए-नए माध्यम खोजे जा रहे थे इन्हीं माध्यमों के सामंजस्य से एक नवीन कला प्रकाश में आई जो संस्थापन कला या प्रतिष्ठान कला के नाम से जानी गई इस माध्यम में चित्र मूर्ति फोटोग्राफी थिएटर प्रिंट मेकिंग प्रदर्शन आदि सभी कलाओं का मिलाजुला स्वरूप दिखाई पड़ता है जहां पर अभिव्यक्ति की अपार संभावनाएं हैं एवं इसका क्षेत्र भी काफी व्यापक है इस विधा में वैचारिक कला अर्थ कला तथा मिनिमल कला का उचित मेल रहता है इस कला का निर्माण मुख्य रूप से अनुपयोगी पदार्थों से किया जाता है

    चंडीगढ़ में बेल्जियम व्यर्थ एवं अनुपयोगी वस्तुओं से नेक चंद सैनी ने 1990 में राग गार्डन का निर्माण किया जो संस्थापन कलाकार एक महत्वपूर्ण उदाहरण है एम एफ हुसैन ने दिल्ली में थिएटर आदि एब्सर्ड नाम से इंस्टॉलेशन बनाया जो भारत की समकालीन कला में महत्वपूर्ण परिवर्तनों का गवाह है विवान सुंदरम ने 1991 ईस्वी में मेमोरियल नामक संस्थापन में राजनीतिक एवं वैश्वीकरण परिदृश्य को चुना है भारत में अमरनाथ सहगल वेदना सतीश गुजराल गोगी सरोज पाल शमशाद हुसैन रत्नावली कांत राजेंद्र टिंकू एन पुष्पमाला हेमा उपाध्याय शीला गौड़ अर्पणा कौर राजीव सेठी निहाल सा दर्शना बोरा अरुण कुमार आदि संस्थापन कला को नई ऊंचाइयों पर ले जाने के लिए प्रयासरत रहें इस माध्यम ने अभिव्यक्ति को परंपरागत रूप से निकाल कर एक असीमित संभावनाओं वाली दुनिया में लाकर खड़ा कर दिया है

एक टिप्पणी भेजें

1 टिप्पणियाँ