Ticker

6/recent/ticker-posts

Advertisement

yagneshwar kalyanji shukla

यज्ञेश्वर शुक्ल
सहज सरल स्वभाव के  व्यक्तित्व के धनी थे वाई के  शुक्ल इनके पिता अहमदाबाद में चित्रकला के शिक्षक के पद पर नियुक्त थे पिता से ही कलाकारी विरासत में प्राप्त हुई हाईस्कूल की पढ़ाई करते हुए चित्रकला का अभ्यास जारी रखा अहमदाबाद आकर रविशंकर रावल के नेतृत्व में चित्रकारी की बारीकियां सीखी धीरे-धीरे इनकी ख्याति बढ़ने लगी 1930 में सर जेजे स्कूल आफ आर्ट मुंबई में प्रवेश लिया जहां पर भारतीय कला के विशेषज्ञ श्री जगन्नाथ मुरलीधर अहिवासी से टेंपरा और वास पद्धति की बारीकियों को सीखा जे जे स्कूल आफ आर्ट से शिक्षा पूर्ण करने के पश्चात 1934 में इटली गए वहां पर रोम की रॉयल एकेडमी आफ फाइन आर्ट से 1939 में ऑनर्स के साथ डिप्लोमा की परीक्षा उत्तीर्ण की यहीं पर भित्ति चित्र, इचिंग, वुड कार्विंग जैसी छापा कला की विधियों में विशेष योग्यता प्राप्त की 1947 में चीन की राष्ट्रीय कला संस्थान से डिप्लोमा प्राप्त किया 1940 मे देश में आगमन के पश्चात जे जे स्कूल आफ आर्ट मुंबई में कला शिक्षक के पद पर नियुक्त हुए 1960 में गुजरात सरकार ने इन्हें ड्राइंग तथा क्राफ्ट कार्य के इंस्पेक्टर के पद पर नियुक्त किया 1966 के राष्ट्रीय कला अकादमी नई दिल्ली के कार्यकारिणी सदस्य भी रहे 1960 में वियना आस्ट्रेलिया में यूनेस्को द्वारा विश्व के छापाकारों की एक प्रदर्शनी का आयोजन किया गया जिसमें भारतीय दल का प्रतिनिधित्व योगेश्वर शुक्ल ने किया 1970 के मध्य वनस्थली विद्यापीठ राजस्थान में एमरीट्स प्रोफेसर तथा 1983 में बनारस हिंदू विश्वविद्यालय में विजीटिंग प्रोफेसर के पद पर कार्य किया
यज्ञेश्वर शुक्ल उन भारतीय कलाकारों में से एक हैं जिन्होंने भारतीय कला के विभिन्न विधाओं में कार्य किया और इन्हें विशेष रूप से छापा कला के लिए जाना जाता है भारत में छपा कला के प्रचार प्रसार में इनका महत्वपूर्ण योगदान रहा या भारत के प्रारंभिक छापा कारों में से एक रहे हैं उन्होंने छापा कला का विशेष अध्ययन विदेश में जाकर किया भारत में आने के पश्चात इस विधा को आगे बढ़ाया वाई के शुक्ल का जन्म 1960 ईस्वी में सुदामापुरी पोरबंदर गुजरात में हुआ था अपने जीवन काल में कई प्रदर्शनीयों में भाग लिया तथा कई एकल प्रदर्शनी भी की लगातार कार्य करते हैं रहे 1986 में इनका निधन हो गया
यज्ञेश्वर शुक्ल की शैली में लगातार परिवर्तन होते रहे चीन यात्रा के समय चीनी प्रभाव दिखाई पड़ता हैं जो उनके चित्र गोरस की लूट में स्पष्ट रूप से दिखाई पड़ता है यूरोप यात्रा के समय उनकी शैली पर यूरोपीय प्रभाव स्पष्ट रूप से दिखाई पड़ता है उन्होंने अपने चित्रों के लिए मॉडलों का प्रयोग किया तथा कोलाज पद्धति का भी सहारा लिया इस रूप में इनका  वधू नामक चित्र अत्यधिक प्रसिद्ध हुआ
परंतु वाई के शुक्ला अपनी शैली में सदैव भारतीय लावर्ण्य और रेखा की मधुरता को बचाए रखा यह प्रमुख रूप से ग्राफिक्स कलाकार थे परंतु आधुनिक ग्राफिक्स कलाकारों की भांति जटिलता पर विशेष कार्य नहीं करते थे
विषय
Y k Shukla के भारतीय ग्रामीण दृश्य चित्रण, श्रृंगार, झूला, तीज, त्यौहार एवं पौराणिक ग्रंथों पर आधारित चित्रण करना उनका प्रिय विषय रहा है विषय में मुख्य पात्र की स्टडी के लिए मॉडल का अक्सर प्रयोग किया करते थे परंतु राजस्थानी शैली का स्पष्ट प्रभाव भी दिखाई पड़ता है जो अलंकारिक रुप में चित्रित है रंग योजना और संयोजन का एक सुमधुर सहयोग दिखाई पड़ता है जो उनके आरंभिक काल से लगाकर अंतिम काल के चित्रों में भी एक समान रूप से विद्यमान रहता है भारतीय कला की विशेषता अंकारिकता वाई के शुक्ल की कला में विद्यमान थी जो चित्रकला और ग्राफिक्स कला दोनों में समान रूप से दिखाई पड़ती है
चित्र
गोरस की लूट,  वधू, जयपुर की एक गली, ग्रामीण दृश्य, रात्रि में वेनिस, onsite

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ