Ad Code

Ticker

6/recent/ticker-posts

Nagar Shaili

नागर शैली की वास्तुकला

नागर शैली मंदिर के अंग
 नागर शैली मंदिर के अंग 

                                 नागर शैली नगर से बना है सर्वप्रथम नगर में निर्माण होने के कारण अथवा अधिक संख्या में होने के कारण इसे नागर की संज्ञा दी गई शिल्पशास्त्र के अनुसार नागर मंदिरों के 8 प्रमुख अंग निम्नलिखित हैं

नागर शैली के महत्वपूर्ण अंग

1 मूल अथवा आधार - जिस पर संपूर्ण भवन खड़ा किया जाता है
2 मसूरक - नीव और दीवारों के बीच का भाग
3 जांघ - दीवारों, विशेषता गर्भगृह की दीवारें
4 कपोत - carnish
5 शिखर - मंदिर शीर्ष भाग अथवा गर्भग्रह का ऊपरी भाग
6 ग्रीवा - शिखर का ऊपरी भाग
7 वर्तुलाकर  अमलाक- शिखर के शीर्ष पर कलश के नीचे का भाग
8 कलश - शिखर का शीर्ष भाग 

नागर शैली मंदिर के अंग

      नागर शैली के मंदिर वर्गाकार होते थे इनकी बनावट ऊपर की ओर शिखर जैसी होती थी जो तिरछी छोटी रेखाओं के द्वारा अंदर की ओर युक्ति जाती थी तथा शीर्ष पर आमलक सुशोभित होता था जिसके ऊपर कलश होता था कलश के ऊपर देवता को समर्पित चिन्ह लगाया जाता था

    इस शैली के मंदिर हिमालय व विंध्याचल पर्वत के मध्य क्षेत्रों में बनाए गए हैं इस शैली में स्थान के अनुसार वास्तु कला में भी परिवर्तन दिखाई पड़ता है पारसी ब्राउन ने नागर शैली को ही उत्तर भारतीय आर्य शैली या आर्यवर्त मंदिर शैली के नाम से उल्लेखित किया है 

   मंदिर का सबसे महत्वपूर्ण पवित्र स्थान गर्भगृह को माना जाता है जहां पर जिस देवता को मंदिर समर्पित होता है उस की मूर्ति या प्रतीक चिन्ह रखा जाता था मंदिरों के विकास के साथ-साथ मूर्ति को तीन ओर से दीवारों से घेर कर उसके ऊपर एक शिखर नुमा आकृति बनाई जाती थी गर्भग्रह में ही प्रदक्षिणा पथ बनाए जाने लगा समय के साथ मंदिरों में अन्य अंग जोड़े गए अंतराल, मंडप, महामंडप, अर्द्ध मंडप आदि इस प्रकार के मंदिरों का श्रेष्ठ उदाहरण कंदरिया महादेव मंदिर में दिखाई पड़ता है

नागर शैली मंदिरों के प्रमुख भाग

                             सोपान, अधिष्ठान, अर्द्ध मण्डप, महामण्डप, अंतराल, गर्भगृह, प्रदिक्षणाप
नागर शैली मंदिर के भाग

नागर शैली मंदिर के भाग


नागर शैली मैं निर्मित प्रमुख मंदि

                                     कंदरिया महादेव मंदिर, लिंगराज मंदिर, मुक्तेश्वर मंदिर




नोट

 नागर शैली के मंदिर मध्य प्रदेश हिमाचल प्रदेश राजस्थान उत्तर प्रदेश बिहार उड़ीसा बंगाल में मुख्य रूप से पाए जाते हैं



एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ