Ad Code

Ticker

6/recent/ticker-posts

Elements of art

चित्रकला के तत्व 

    एक चित्र के निर्माण के लिए कुछ आधारभूत तत्वों की आवश्यकता होती है जिन्हे हम चित्रकला के तत्व कहते हैं वैसे तो यह कोई मान्य सिद्धांत नहीं है कि इनका प्रयोग कब और कैसे करना चाहिए पर सभी प्रकार के चित्रों का अवलोकन करने के पश्चात यह सिद्धि जाता है किसी न किसी रूप में यह सभी तत्व हमारे सृजन का अंग हो जाते हैं चित्रकला के 6 प्रमुख तत्व है





6 अंतराल Space

         उपरोक्त तत्व प्रत्येक चित्र में विद्यमान रहते हैं भले किसी तत्व का महत्व कम या अधिक हो सकता है आजकल कला की कई विधाएं है जिनमें इनका प्रयोग सुविधा के अनुसार कलाकार करते हैं कहीं पर कोई तत्व प्रधान होता है तो कहीं पर कोई अगर हम समग्र दृष्टिकोण से विचार करें तो पाएंगे कि चित्र के लिए सबसे महत्वपूर्ण तत्व अंतराल है इसके अभाव में अन्य पांच प्रभावहीन हो जाते हैं इसीलिए यह सबसे महत्वपूर्ण है अंतराल का चुनाव कलाकार की इच्छा पर निर्भर करता है वह किस प्रकार का धरातल अपने चित्र सजन के लिए महत्वपूर्ण समझता है चित्रकार धरातल में मुख्य रूप से कागज, लकड़ी, ताड़पत्र, कपड़ा एवं दीवार, फर्श, छत आदि का प्रयोग करता है इसके अतिरिक्त वह धरातलओ को अपनी इच्छा के अनुसार भी निर्मित कर सकता है

         चित्र के निर्माण के लिए रेखा भी महत्वपूर्ण एक तत्व है बालक जब कला का अभ्यास प्रारंभ करता है कब हुआ रेखाओं की सहायता से कुछ रूप बढ़ता है धीरे-धीरे समय के साथ यह और अधिक अशक्त होती जाती हैं जिनके माध्यम से कलाकार भविष्य में अपने मनो विचारों को दर्शाता है

         वर्ण  या रंग चित्र की आत्मा कहा जाता है रंग चित्र को आकर्षक महत्वपूर्ण और भावनात्मक शुरू प्रदान करते हैं प्रत्येक रंग विशेष प्रकार की भावनाओं को उद्वेलित करने में सहायक होता है पर कलाकार यहां पर कोई मान्य या सैद्धांतिक दृष्टिकोण अपनाएं ऐसा नहीं है प्रत्येक कलाकार स्वतंत्र होकर इनका प्रयोग करता आया है किसी को कोई रंग भाता है तो किसी को कोई रंग अपनी भावनाओं को व्यक्त करने के अनुरूप सहज प्रतीत होता है

         चित्रकला में रूप का अपना महत्त्व है चित्र भूमि पर अंकन प्रारंभ करते ही रूप सक्रिय हो जाता है वह चित्र भूमि को जीवंत बना देता है एक कलाकार के लिए रुक का महत्व समझना अत्यंत आवश्यक है क्योंकि यह निर्धारित करता है की कलाकृति कैसी होगी रूप दर्शक को अपनी तरफ आकर्षित करता है साथ ही कलाकार इनके माध्यम से अपने भावों को व्यक्त करता है 

          चित्र में हल्के गहरेपन घोतक है किसी भी चित्र को प्रभावशाली बनाने के लिए छाया प्रकाश का होना अत्यधिक आवश्यक है क्योंकि कलाकार दो आयामी भूमि पर 3 आयामी प्रभाव मात्र तान के उचित प्रयोग के द्वारा ही दिखा सकता है

          पोत सतह का गुण  है कलाकार जब किसी वस्तु का निर्माण करता है तो वह उसके साथ उसके धरातल पर व्याप्त पोत का भी अनुकरण करता है जिससे वह वस्तु का यथार्थ शुरू दिखा पाता है जैसे पत्थर को वह कठोर और ठोस चित्रित करता है 
         
              

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ