Ad Code

Ticker

6/recent/ticker-posts

तुम्हारे हैं सनम

हम स्वयं के नहीं तुम्हारे हैं सनम
तुम्हारी कसम तुम्हारे हैं सनम
दिन भर चाहे जितना घूम ले हम
थक हारकर शाम को तुम्हारे ही पास आना है
तुम्हारी कसम तुम्हारे हैं सनम
शक की नजर से मुझे ना देखो अब
मैं कोई अपराधी नहीं जो सफाई दूं
दिन भर रूठ कर तुमसे
तुम्हारी अहमियत जान कर आया हूं
तुम्हारी कसम तुम्हारे हैं सनम
तुम्हें तो सत्कार करना चाहिए
तुम्हारे लिए सबकुछ छोड़ कर आया हूं
मैं भूल जाता हूं तेरे एहसासों को जिस पल
मेरी सांस थमने लगती है
तुम्हारी कसम तुम्हारे हैं सनम
तुम कहती हो मैं भंवरा हूं
जो रस के लिए कलियों पर मडराता हूं
नहीं है ऐसा नहीं है
मैं तो कलियों की हिफाजत के लिए उनके पास आता हूं
तुम्हारी कसम तुम्हारे हैं सनम
विश्वास और एहसासों के दामन में बंधे हैं हम दोनों
क्यों नहीं समझती रूठना मनाना प्रेम की पराकाष्ठा है प्रिये
तुम्हारी कसम तुम्हारे हैं सनम

अगर अपराध भले हो जाए जाने या अनजाने में
उसे बेवफाई का नाम मत देना
हम एक ही मंजिल के मुसाफिर हैं
रास्तों को इल्जाम मत देना
जिंदगी के सफर में आते हैं अजीब मोड़
इसमें किसी का नाम मत लेना
बस इतना समझ कर चलना आखिर हम इंसान हैं
गलतियों को बेवजह तुम बेवफा का नाम मत देना
तुम्हारी कसम तुम्हारे हैं सनम

धन दौलत बंधक नहीं है किसी की
जो मिले उसे संभालना सीख लेना
जिंदगी का सफर है उसे पाने का
तुम उसका मुकद्दर नहीं सीख लेना.

हमारी हां में हां मिलाकर तो देखो
कभी फुर्सत हो तो पास आकर तो देखो
बदनसीबी भाग जाएगी
कभी मुस्कुरा कर तो देखो

एक टिप्पणी भेजें

3 टिप्पणियाँ